गुरुवार, 5 जनवरी 2012

अहंकार

अहंकार 
इन्सान के में अहम की बीमारी होने पर मे मे का आलाप शुरु हो जाता हैं. बाद में नही सुनने की एक आदत के रूप में आदत विकसित हो जाती हे, बहरा तो नही होता परन्तु किसी की बात नही मानता जिस कारण सामाजिक विकास के साथ शारीरिक विकास में मानसिक गतिशील संतुलित बुद्धि  का अवरोध बना रहता हे, समय हाथ से निकलने के बाद पछतावा के अलावा कोई चारा नही रहता, इस लिए कहते हे की .................................जब चिड़िया चुग गए खेत अब पछताए तो क्या होए ..........................