बुधवार, 18 जनवरी 2012

my health

 समाज = मै + आप + हम = कुल मिलाकर समाज बनते है , और  मनुष्य  एक सामुदायक प्राणी है .. जिसमे रिश्ते नाते की मान मर्यादा का पोषन के साथ संस्कारो का ख्याल की शिक्षा देने के बाद भी आज का युवा दिसा हिन् आधुनिकता के चक्कर मै तरुण अवस्था मै विपरीत लिंग के आक्र्सन मै डूबा  नजर  आ  रहा है ,जो  हमारी  संस्क्रती  लिए  घातक दिख रहा है ................................................................................................                                                                   [ १ ] २४ घंटो मै सोता कितना                                                                                                                                                        [ २] पढने मै कितना समय बिताता                                                                                                                           [ ३ ] घर मै कितना  समय बिताता                                                                                                                         [ ४ ] अपने दोस्तों मै कितना समय बिताता ......................................................................................................इस प्रकार के समय के उपयोग मै कोन कोन सी प्रेणना का उपयोग कर अपने जीवन की जीवन यात्रा मै सुरुसी तथा सुनीति के गुण दोस के मध्य भटकता या भ्रम भय या आनन्द परमानन्द के रस्ते जा रहा है ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,.... { ५ }यह जानना अभी भावक की भी जवाब दारी है