शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2012

food egotism

आहार का आकलन = प्राय देखा जाता है की मानव अपना अहं [अहम]  इस प्रकार से प्रदर्शन करते कहते है.                                                                                                                                                        [१]  हमारे समाज में तो ये मान्यता प्रयाप्त आहार है ,                                                                                                [२] हमारे घर में ये अच्छा व् शुद्घ ही होता है,                                                                                                       [३] मै तो संतुलित ही आहार करता ,                                                                                                                 [४] मै तो नास्ते में काजू  बादाम ही खाता हू ,                                                                                                         [५] माता मुझे अच्छी कैलोरी  वाली भोजन करती है ,                                                                                             [६] हमारे घर में हर खाने के बाद मिठाई खाना तो शानो शोकत  [ रुबाब ] है ,                                                          [७] हमारे घर में तो दादाजी के जमाने से चाय कोफ़ी पीते आये है ,                                                                      [८] कोल्ड ड्रिंक के बिना तो मेरे  से तो रहा ही नही जाता,                                                                                         [९] शाम को ८ p. m.  को दो पेग लेना मेरा उदेश्य है ,                                                                                              [१०] दो चाकलेट रोज  तो खाती  ही  हु ,                                                                                                                           [११] पत्नि सुबह सुबह पराठा खिलाती ही है  .....................................................................................................................................................................ये जो भ्रम  के कारण अहं भाव जहा अपने को बड़ा बताना या दबी भावनाओ   के प्रति स्थापित करना चाहता है .....................................................................................................................................................................