शुक्रवार, 2 मार्च 2012

MY DIET DISCOVER

भारतीय पूरक आहार  = मेथिका , मेथी भारत  में सभी जगह पाई जाती है,बीजो को मसालों में डाला जाता है ,इस की कोमल पत्तो का साग -सब्जी बनाई जाती है ,और इस को दवाई बनाने के काम में ली जाती है ,यह स्वाद में कडवी होती है ,उष्ण वीर्य होता है ,कफ,वात,और ज्वर को समाप्त करती है,दीपन करती है ,भूक की रूचि जगाती है ,और गुण यह है की बल को बढ़ाती कब्ज का नाश करती  तथा वात को हरती है , मेथी की पत्ती पित्त का शमन करती ,पाचन को सुधारती शीतलता देती ,पाद निकालती तथा सुजन को दूर करती है ,मेथिका  बीज वात का नाश करते पोष्टिकता को बढ़ाते,खून का संग्रह करके शरीर के सुजन को दूर करते ,पित्त प्रकति वालो को कब्ज को दूर  करते पेट में आव को मिटाती ,  महिलाओ के प्रवस के बाद लड्डू बना कर खिलाया जाता है ,  इससे भूख लगती है और पुरे भारत में बुजुर्गो के मेथी के लड्डू को पूरक आहार के रूप में सर्दी में खाए जाते है जिस से कफ नही बने तथा जोड़ो का दर्द नही सताये