सोमवार, 2 अप्रैल 2012

obese abillity,

मोटापा  = मोटापा होना किसी दूसरे की देन होना नही होता बल्कि स्वंय पैदा करने में प्रथम दृष्टि भूमिका के कारण से अपने इन्द्रियों का गति में कोई नियंत्रण नही पाया जाता और मन  की गति और भी इन इन्द्रियों से भी तेज घोड़े की गति से खाने पिने को आतुर [ यंत्र चाल ] से भूखे की आशा ही अभिलाषा जो कभी तृप्त नही करने वाली बनी की, बनी रहती है भारत में एक कहावत चलती है की जबान को लगाम  नही लगाने से स्वाद ,सुगंध ,विचारिक ,सुंदर दिखावा ,और स्पर्श सुख जो भरे पेट में भी मन को सपने [ कल्पना ] को जाग्रत ऊर्जा करके भोजन पाने का ही यत्न बना रहता है ...