शुक्रवार, 22 जून 2012

बहेड़ा = ,अक्ष ,बिभितक, बहेड़ा का वृक्ष पुरे भारत में होता है . स्वाद में कषाय, बालों को के लिए हितकारी ,उष्ण वीर्य ,मधुर विपाक ,लघु ,रुक्ष ,भेदन ,खांसी को मिटनेवाला ,मोटापा नाशक ,कफ,पित्त और वायु को मिटनेवाला ,स्वरभेद को दूर करने

बहेड़ा = ,अक्ष ,बिभितक, बहेड़ा का वृक्ष पुरे भारत में होता है .  स्वाद में कषाय, बालों को के लिए हितकारी ,उष्ण वीर्य ,मधुर विपाक ,लघु ,रुक्ष ,भेदन ,खांसी को मिटनेवाला ,मोटापा नाशक ,कफ,पित्त और वायु को मिटनेवाला ,स्वरभेद को दूर करनेवाला ,बहेड़े फल की छाल जुखाम.खांसी और स्वास के रोगों को मिटाता है .शरीर के सूजन होने पर इस के बिजो को मग्ज का लेप करते है .जिस से जलन कम होती है .बहेड़ा मादक होता है .शरीर में प्रतिरोगक्षमता को बढता है .आखों के लिए हित कारी .प्यास और वमन को मिटनेवाला .त्रिफला चूर्ण में एक तीसरा हिस्सा बहेड़े का मिलता या मिलाया तब जाकर त्रिफला बनता है .बालों को काला करने में का काम आता है .इस की मुख्य क्रिया ,श्वसन क्रिया पर अच्छी होती है .