मंगलवार, 13 अगस्त 2013

वाजीकारक पूरक

वाजीकर पूरक आहार = भारतीय सदियों से कामोत्तेजक प्रजनन क्षमता में सुधार बनाया रखने में जुनून प्रेरित खाने-पिने वाले आहार को पाने के लिए पारंपरिक वेदों [ ज्ञानीजनो ] से सरल रूप में पाने में सफल रहते .मजेदार के साथ मज़बूती शरीर का कोई मज़ाक नही करते थें .
तुलसी एक पूजा पौधे होने के साथ पूरक आहार का पूर्ण ज़िम्मेदारी निभाया हैं. दन्त कथाओं के साथ शास्त्रोक्त नुस्खे  अपनी कार्य भूमिका निभाते हैं. यह पुरुष में मैथुन शक्तिशाली के लिए वाजीकारक होने से प्रजनन क्षमता बढ़ता हैं. ठंड लगने पर ये आप को उत्तेजित करता हैं. इस के पत्तों से अतिरिक्त खुशबूदार असर पुरुष का काम में मन परिवर्तित कर देता हैं. भोजन में सलाद में डाल कर उपयोग लिया जा सकता है .
सुस्त चुंबन का प्राय करना हो तो एक तुलसी का पता खाए. इसीलिए ही भारतीय परम्परागत इस पौधे को दैनिक काम में तुलसी पत्ती का प्रयोग मौत-मरण , बीमारी,व्रत-त्योहारों में उपयोग किया जाता है.