रविवार, 5 अक्तूबर 2014

पथरी मोहन

पथरी एक इस प्रकार की बीमारी जो बार बार होती हैं, आपरेशन के बावजूद ये बीमारी दोबारा हो जाती जिसका एक उद्दाहर आप के सामने लिखा जा रहा जो आप देख सकते हैं, ये मोहन लाल पालीवाल एक राजस्थान सरकारी कर्मचारी हैं. इनको पथरी की शिकायत का पहला आपरेशन 12/01/2011 को कराया st.teresa's hospital udaipur शहर में. दूसरा आपरेशन करवाया 07/02/2011 तारीख को कराया नडियाद गुजरात में और तीसरा आपरेशन करवाया गीतांजलि मेडिकल और हॉस्पिटल उदयपुर में 14/04/2014 को एवं चौथी बार फिर पथरी हो गई तब मेरे पास आये उस समय इनकी पथरी 5.1 MM, और 4.6 MM थी.  फिर मैने हर्बल चिकित्सा से उपचार किया और मेरे उपचार के बाद पथरी निकल चुकी हैं. बार बार पथरी होने और आधुनिक शल्यचिकित्सा के भी नकारात्मक परिणाम निकाल के सामने आने लगते जिससे गुर्दे खराब होने का भी कारण होता हैं, इस बात का भी प्रमाण आप को इस रिपोर्टों को देखेंगे तो साफ-साफ पता चलता की पथरी के साथ दूसरी बीमारी भी शुरू हो गई. बार बार पथरी बनना के लिए मानव की भी जीवन शैली में परिवर्तन की आवश्यकता होती हैं, जिससे की पथरी बने ही नहीं.