सोमवार, 10 नवंबर 2014

पथरी ललित उर्फ़ लक्ष्मी जोशी

ललित जोशी उर्फ़  लक्ष्मी लाल भवानी की भागल को दोनों गुर्दों में पथरी हुई ! तब सुरत शहर गुजरात में सोनोग्राफी करवाई जिसकी कॉपी संलग्न की गई. 
दाया गुर्दा में पथरी 1.  30 * 22 MM,
                    2. 10 MM 
बाया गुर्दा में पथरी.  3-4 MM
 मेरे से हर्बल चिकित्सा ली गई और 15 दिन बाद वापस आने को बोला था, क्योंकि उपचार 15 दिन का ही दिया गया था . जो 25 नवम्बर की बजाय 2 दिसम्बर 2014 को वापस सोनोग्राफी जिला चिकित्सालय राजसमन्द करवाई जिसमे एक दाये गुर्दे में 15.2 MM पथरी होना पाया गया. बाए गुर्दे से पथरी निकल चुकी और दाए गुर्दे में अब पथरी आधी निकल चुकी और अधि शेष 15.2 MM बची, जिसमे भी रोगी की दवाई लेने में लापरवाही बरती. आज 2 -12-2014 को वापस उपचार जारी किया. अब उसको वापस 15 दिन का उपचार दिया गया. वापस 17 दिसम्बर को आने का कहा, जिसमे रोगी की लापरवाही होना पाया गया. बार बार फोन करने पर रोज बहाना बनाना शुरू कर दिया क्यों दी दुबारा आने पर हमने उसको उपचार उधार कर दिया था इस कारण से वो टालम-टोल करता रहा. अब वो आज 7 जनवरी 2015 पूजा क्लिनिक में सोनोग्राफी कार्यवाही जिसमे दो प्रकार की पथरी होना बताया 20.9 MM और  9.8 MM साइज की पथरी के साथ साथ गुर्दा फुला हुआ पानी से भरा बताया गया. इससे पूर्ण रूप से ज्ञात होता की आदमी अनुशासनहीनता में जीता हैं और अपने सुख-दुःख का भागीदार हो कर अपने कर्म फल से अपना भाग्य खुद लिखता हैं. जब उपचार में उधार की राहत देने का दुरुपयोग सीधा दिख रहा.