रविवार, 28 दिसंबर 2014

पथरी लीला

लीला नाम की औरत को पेट दर्द की शिकायत हुई, इस बीमारी के लिए महिला डाक्टर हो दिखाया जिसने सोनोग्राफी में पथरी होने की शंका हुई लिखा, रोगी के अभिभावक मेरे पास आये तो मुझे इनकी सोनोग्राफी से संतुष्टि नहीं हुई तो किसी दूसरे चिकित्सक से सोनोग्राफी की सलाह दी तो दूसरे डाक्टर ने अपेंडिक्स होने की लिखा तो फिर अभीभावक मेरे पास आये तो मैने तीसरी सोनोग्राफी के लिए परामर्श दिया, और तीसरे डाक्टर ने दो स्थानों पर पथरी होने की पुष्टि करण लिखा, जो आप देख रहे हैं, 5.6 MM  गुर्दे के केलिक्स के मध्य पथरी के साथ गुर्दे में पानी का भराव और  8.2 MM  नीचे ureter [ मसाने,गविनी, मूत्र नली ] में पथरी का पाया जाना बताया, इस प्रकार सोनोग्राफी में त्रुटी  के कारण से भी रोगी और चिकित्सा में देरी और अविश्वास पैदा होता हैं. जो गरीब के लिए विकट संकट का सामना करना पड़ता हैं. साथ चिकित्सक को भी बदनामी का सामना करना  पड़ता हैं. तारीख 15-01-15  को पूजा क्लिनिक में सोनोग्राफी करवाई जिसमे मध्य केलिक्स में 7.3 MM की पथरी का पाया जाना बताया गया, जब की इसके पहले वाली जाँच में  5.6 MM  गुर्दे के केलिक्स के मध्य पथरी के साथ गुर्दे में पानी का भराव के साथ पथरी बताई गई जो संदेहास्पद स्थति होती हैं. फिर 06 - 02 - 15  उदयपुर GMCH में सोनोग्राफी करवाई जिसमे दाए गुर्दे में मध्य  केलिक्स में 4.5 MM की पथरी का होना बताया गया. जिसके बाद अभिभावक के चेहरे पर ख़ुशी नजर आई .