सोमवार, 21 नवंबर 2016

सनम बेवफा

सोनम गुप्ता बेवफा इसलिए थी, क्योंकि उसका प्रेमी कमजोर था,

आज का युवा आशा राम से गया गुजरा क्यों ?

जानिये ये प्रेमी कमजोर क्यों होते है.

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, उसको समाज के निर्माण पूर्व माता-पिता की आवश्यकता के मिलन के बाद ही पुत्र-पुत्री की प्राप्ति होती हैं, इस पारिवारिक रिस्तो को निभाने के लिए अर्थ की आवश्यकता होती है, समाज और अर्थ एक सिक्के के दो पहलू है. इस संसार के आने से पूर्व मानव जीवन में एक समाज होता उस जीवन के समाज में आने पर उस प्राणी की जीवन शैली में उस के संस्कृति का पोषण होता है. और अपनी संस्कृति के अनुसार ही शादी होने की मान्यता स्वीकार्य होती है. कई बार विपरीत समाज के समुदाय रहने वाले लड़का-लड़की से आकर्षण हो जाता है. जब विपरीत धर्म समुदाय में धर्म का धर्मानुसार ही शादी बंधन होता है, इसके बावजूद भी कभीकभार दो युवा शक्तियों के आकर्षण प्रबल होता हैं, तो घर से लड़की पर बहुत सारे प्रतिबंध हो जाता हैं, इन प्रति बंधनों में एक स्वयं लड़की के विवेक कोटे से भी का प्रति बंध होता है, जो व्यक्ति के अप्रभावित व्यक्तित्व के गुणों के कारणों देख कर उसकी योग्यता को नकार दिया जाता है.

सामाजिक कमज़ोरी, आर्थिक कमज़ोरी, शारीरिक कमज़ोरी और मानसिक कमज़ोरी के कारण प्रेमी या प्रेमिका बेवफा हो जाती हैं, इन कारणों के कारण से व्यक्ति कमजोर और कायर हो जाता हैं, कायर व्यक्ति के व्यक्तित्व में भय और भ्रम पैदा होता है, कभीकभार कोई तो व्यक्ति पागलपन में जीता हैं. 
वंचित प्यार के कारणों से आत्म हीनता और कायरता पैदा हो जाती है, जिसके कारण से व्यक्ति का उम्माद / उम्मीद निराशाजनक व्यक्तित्व जीवन जीने को मजबूर करता है. 

यार दिलदार प्यार चाहिए की पैसा चाहिए, प्यार चाहिए प्यार के लिए मगर पैसा चाहिए.

भय, भ्रम को कैसे दूर करे.

क्या आप को आप की प्रेमिका का छोड़ कर जाने का डर सता रहा है.

अगर इस प्रकार की किसी भी समस्याओं से आपकी परेशानी जैसे पैसा, प्यार, समाज, भय, भ्रम है तो आप हम से समाधान पा सकते है. अधिक जानकारी के लिए हमसे सम्पर्क करे. 

मंगलवार, 16 अगस्त 2016

गुर्दे की पथरी का देशी दवा से सफल उपचार

गुरुवार, 28 जुलाई 2016

पथरी

भेरू सिंह राजपूत आयु 28 वर्ष को दाए गुर्दे में पानी का भराव हो ने के साथ PUJ [ pelvi - ureteric juction {PUJ} obstrution ] स्थान में 7. 2 M M पथरी का होना सोनोग्राफी करवाने से ज्ञात हुआ. आज 28-07-2016 को उपचार दिया गया. आज 16-08-2016 को वापस सोनोग्राफी नई निकाल कर आया जिसमे पथरी निकल चुकी का प्रमाण लाया, इस प्रकार से 15 हजार रुपये की बचत हुई और आपरेशन के दुष्परिणाम से बच गया. इस प्रकार देशी उपचार लाभदायक होता है जो आर्थिक स्थति में मदद करता हैं, साथ ही आपरेशन के दुष्परिणाम से भी बचाता है. 
    

शुक्रवार, 8 जुलाई 2016

मधुमेह तनाव

तनाव हमारे दैनिक जीवन में  एक बहुत ही सामान्य प्रक्रिया है, यह एक तनाव एक समस्या है या विकार यह हमारे शारीरिक को और मानसिक को प्रभावित करता है जब ये उत्पन्न हो जाता है.
तनाव शारीरिक मापदंडों जैसे अनसुलझे मुद्दे, बुरा रिश्ता, आंतरिक दर्द, मृत्यु  भय, डर चिंता, घर में अपने प्रभाव का नहीं होना के कारण होता है.
एक मधुमेह के रोगी के लोगों में, तनाव पर ध्यान दिए बिना मधुमेह रोगियों में यह चिंता और अवसाद की वृद्धि दर के लिए अग्रसर तनाव का एक प्रमुख कारण होने से होता है, फिर यह उच्च रक्त शर्करा के स्तर की ओर बढ़ जाता है.
तनाव कैसे बीमार के जीवन को प्रभावित करता है ?
जब हमारे शरीर को तनाव का अनुभव होता है, तब वह एक प्रकार से हमला होता हैं, इसका रोगी और भोगी ध्यान नहीं होता या नहीं देता हैं, जब ध्यान की अनूस्थिति या अनूउपस्थिति में शारीरिक हमला करने से गुप्त उच्च रक्त शर्करा बढ़ जाती हैं, और ईन्सुलिन की कमी पड़ जाती हैं.
जब रक्त ग्लूकोज अधिक बढ़ जाता है, तो पर्याप्त इसके लिए इन्सुलिन नहीं होता जिस कारण से रक्त ग्लूकोज स्थानातरण अन्य कोशिकाओं तक नहीं हो पता है.
तनाव की लंबी अवधि में रोगी  का दिमाग एक चुनौती देता है, की अधिक इन्सुलिन पैदा करना, जब ईन्सुलिन पर्याप्त उत्पन्न नहीं होता है तो इस विफलता के कारण रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता हैं. अथवा अन्य बीमारियों की चुनौतियों में विफलता मिलती है तो भी रक्त शर्करा बढ़ जाती हैं.
नैदानिक उपाय
ऐसे बहुत तरीके के उपाय हैं जिसमें आप योग की तरह विश्राम उपायों की तरह तनाव को कम कर सकते हैं, प्रणायाम से ध्यान कर आप सकारात्मक जीवन शैली को परिवर्तन करके अपने आनंद के स्तर पर आप आध्यात्मिक शांति को पूरा करने में वृद्धि कर सकते हैं. एवं आप तनाव के पीछे छिपे अन्य कारण की पहचान और सुधारने  में आप स्वंय साधक हो सकते हैं. इस प्रकार आप 30-35 प्रतिशत चिंता को कम करके रक्त शर्करा को कम कर सकते हैं.


शनिवार, 14 मई 2016

गीता को पथरी

श्री  मति गीता पत्नी श्री किरन सिंह को  पांच बार गुर्दों की पथरी का आपरेशन हुआ, एक  बार शल्यचिकित्सा [ चिर फाड़ ] चार बार लेज़र, किरन से  [ दूरबीन से ] ऑपरेशन कराया, अब दोनों गुर्दों में पथरी का होना पाया गया. दाया गुर्दा में 4.4 mm और  बाया गुर्दा में 4.6 पथरी का अल्ट्रासाउंड परीक्षण से ज्ञात हूँ , आज  उपचार शुरू किया गया 15  दिनों बाद वापस दिखाने को बोला. 30 - 05 - 16 को रेखा शर्मा से से अल्ट्रा सोनोग्राफी करवाई तो दाया गुर्दा में 14 MM पथरी होना बताया hydronephrasis के साथ और बाए गुर्दे में 9 MM की पथरी बताई गई . इसके बाद करीब 15 दिनो के उपचार बाद 31-05-2016 डाक्टर पुरोहित हॉस्पिटल नाथदुवारा सोनोग्राफी करवाई जिसमें बाएँ  गुर्दे में पथरी निकल चुकी बताई गई, और दायें गुर्दे में 6.4 MM पथरी का होना बताया. आज 24-06 -2016 को गीता अपने पिता के साथ शर्मा हॉस्पिटल राजसमन्द से सोनोग्राफी करवा के आई जिसमे एक दाया गुर्दा में 6-7 MM पथरी का होना बताया गया जो मुझे संदेहास्पद भी लगता है. फिर भी यह एक सत्यापन हुआ की गीता के बाए गुर्दे से पथरी निकल चुकी बाकी रही दूसरे दाया गुर्दा में पथरी जो भी है उसका उपचार जारी हैं. बार बार आपरेशन से गुर्दा कमजोर हो जाता है. और  पथरी  भी बार बार निरंतर बनती रहती है, इसका कारण की अपनी जीवनशैली के आहार लेने के कारण होती रहती है. आज 11-07-16 को चौथी बार उपचार दिया गया. अल्ट्रासाउंड नहीं कराने का कारण रुपया खर्च होना बताया गया.



शुक्रवार, 22 अप्रैल 2016

दोनों गुर्दों में पथरी

सरीफ को अपने दोनों गुर्दों में पथरी का होना पाया गया जो निम्न अल्ट्रासाउंड कराने के बाद ज्ञात हुआ.

बुधवार, 16 मार्च 2016

सतवारी

सतवारी, शतमूला, सह्समुली इत्यादि नामों से जानी जाती है.
शतावरी / ऐस्पैरागस
पोषक मूल्य प्रति 100 ग्रा.(3.5 ओंस)
उर्जा 20 किलो कैलोरी   90 kJ
कार्बोहाइड्रेट     3.88 g
शर्करा 1.88 g
आहारीय रेशा  2.1 g
वसा 0.12 g
प्रोटीन 2.20 g
थायमीन (विट. B1)  0.143 mg   11%
राइबोफ्लेविन (विट. B2)  0.141 mg   9%
नायसिन (विट. B3)  0.978 mg   7%
पैंटोथैनिक अम्ल (B5)  0.274 mg 5%
विटामिन B6  0.091 mg 7%
फोलेट (Vit. B9)  52 μg 13%
विटामिन C  5.6 mg 9%
कैल्शियम  24 mg 2%
लोहतत्व  2.14 mg 17%
मैगनीशियम  14 mg 4%
फॉस्फोरस  52 mg 7%
पोटेशियम  202 mg   4%
जस्ता  0.54 mg 5%
मैंगनीज़ 0.158 mg

असगर पथरी

  1. अगसर केलवा निवासी को गत पांच वर्ष से गुर्दों में पथरी से परेशानी हैं, असगर को पथरी गुर्दों में होना निम्न दर्शित दो स्थानों की सोनोग्राफी से ज्ञात होता है, इसलिए आज इसका उपचार शुरू किया है. पथरी की विभिन्न अवस्था में लगातार होना पाया गया. दो स्थानों की सोनोग्राफी में अलग अलग पथरी की अवस्था को वर्णन किया गया हैं.

  1. दो पथरी के टुकड़े निकल चुके हैं, आज वापस दूसरी सोनोग्राफी डाक्टर पुरोहित साहब नाथदुवारा से करवा के लाया. उपचार में लापरवाही बरती गयी बताये अनुसार उपचार में देरी के साथ अनियमितता और अपनी मर्जी के अनुसार ही औषधि का सेवन किया. पन्द्रह दिन के कोर्स को दुगुना समय में परिवर्तन कर दिया.



शनिवार, 9 जनवरी 2016

एच. आई. वी / एड्स

 Acquired Immune Deficiency Syndrome = AIDS यानि एड्स जो व्यक्ति को रोग प्रतिरोध क्षमता को कमजोर कर देती हैं, जिससे अर्जित रोग के लक्षण स्वभाविक क्षमता कमजोर हो जाती है, और जिससे निर्बलता आ जाती है. प्रतिरोध क्षमता कमजोर होने से रोगों की तीव्रता हो जाती है.

Human Immuno-deficiency Virus = HIV यानि एड्स का संक्रमण का विषाणु मानव शरीर में यौन सम्बन्ध स्थापित होता है , किसी एक पक्ष में यह बीमारी होने से दूसरे व्यक्ति में प्रवेश करती है,
एच. आई. वी / एड्स आज वैज्ञानिक युग में एक नई चुनौती समस्या पैदा हुई हैं. एड्स का पता लगना मतलब एक गहरी प्रमाणिक मृत्यु दंड की सजा का आदेश प्राप्त हो गया हैं,

वर्तमान में इस बीमारी के कारण पीड़ित रोगी व्यक्ति को लज्जा, मानसिक भय, समाज में तानाकशी के कारण आर्थिक स्थिति से संकट में गुजरना पड़ता है. परिवार, मित्र, सगे-सम्बन्धी से झूठे आरोपों से भयभीत होना पड़ता हैं. रोगी के साथ मानसिक पीड़ादायक विचार हमेशा सताते रहते हैं. समाज में उपेषित भाव से देखा जाता हैं. जिसके कारण रोगी व्यक्ति अत्यधिक आत्मग्लानि महसूस करता है, आजीविका कार्य स्थल पर हेय नजर से देखा जाता हैं. इस प्रकार से पापबोध के कारण आत्म हीनता पैदा होती हैं. जिसके कारण जीवन जीने के लिए आत्म क्षमता कमजोर हो जाती है और व्यक्ति उदास रहता है.  इसलिए इन व्यक्तियों को मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और आर्थिक आघात से बचने के लिए यथा योग्य परामर्शदाता से परामर्श लेना चाहिए.

नोट- इस बीमारी में रोगी का वजन लगातार गिरता रहता है, यदि कोई रोगी अपने वजन को नियंत्रण में रखना चाहते है तो हम उस व्यक्ति की गोपनीयता रखते हुए वजन बढाने के लिए पूरक आहार देते है जो पीड़ित रोगी व्यक्ति हमसे व्यक्तिगत सम्पर्क कर सकते है. गिरता वजन रुकना और खोया हुआ वजन बढ़ने के बाद ही हमे अपना शुल्क देन, अर्थात वजन बढने के बाद शुल्क [ रुपया ] दे.

09829085951
इनका 15 किलो वजन बढ़ा हमारा पूरक आहार लेने के बाद . ये अब आराम से अपना दैनिक कार्य करती है एवं  उत्साह और उर्जावान महसूस करती है.